Padahastasana Steps and benefits in hindi | पादहस्तासन योग

” Padahastasana Steps And Benefits In Hindi”  इस लेख में आपको पादहस्तासन क्या है, पादहस्तासन करने का सही तरीका, इसके फायदे और साथ ही पादहस्तासन करते वक्त रखने वाली सावधानियों के बारे में बताएँगे।

हमने देखा है कि इसे अन्य ब्लॉग पर बहुत लम्बा और भ्रमित करके बताया है। इसीलिए हम आपको सभी जानकारी सही एवं संक्षेप में बताने का प्रयत्न करेंगे।

पादहस्तासन संस्कृत शब्द है। इसका अर्थ होता है, पैरों को हाथों से छूने वाला आसन। पादहस्तासन को अंग्रेजी में Hand To Foot Pose भी कहा जाता है। यह आसन पूरे शरीर को स्ट्रेच करता है। पादहस्तासन में खड़े होकर आगे की ओर झुका जाता है और अपने दोनों हाथों से पैर को छूते है।

पादहस्तासन करते समय हमारा सिर अपने हृदय के नीचे होता है जिससे रक्त का प्रवाह पैरों में होने के स्थान पर सिर की तरफ होने लगता है। इससे दिमाग में रक्त और ऑक्सीजन की अच्छी मात्रा पहुँचती है।

यह सूर्य नमस्कार आसन की तीसरी स्तिथि भी है। पादहस्तासन योग पेट की चर्बी को कम करने, पाचन संबंधी समस्याओं को ठीक करने, आपकी लम्बाई बढ़ाने और जांघ की मांसपेशियों को एक अच्छा खिंचाव देने के लिए जाना जाता है।

आइये पादहस्तासन योग करने का तरीका और उसके लाभों को जानते हैं।


पादहस्तासन करने की विधि | Padahastasana Yoga Steps in Hindi

पादहस्तासन की विधि इस प्रकार है :

  1. हाथों को बाजू में रखकर सीधे खड़े हो जाईये।
  2. हाथों को धीरे – धीरे सिर के ऊपर ले जाये, हथेलियाँ ऊपर की ओर खुली हो।
  3. साँस को बाहर छोड़ते हुए आगे झुकिए।
  4. उँगलियों से पैर को या जमीन को छूने का प्रयत्न कीजिये।
  5. सिर को घुटनों से लगाने का प्रयत्न कीजिये।
  6. अपनी क्षमता के अनुसार इस स्थिति में रुके।
  7. पूर्व स्तिथि में वापस आ जाये।

श्वास – हाथों को ऊपर ले जाते समय श्वास लीजिये।
आगे की ओर झुकते समय श्वास छोड़िये।
अंतिम स्तिथि में धीरे – धीरे श्वास लीजिये।
श्वास लेते हुए वापस लौटिए।

Padahastasana

पादहस्तासन के लाभ | Padahastasana Yoga Benefits In Hindi

इसे नियमित रूप से करने पर निम्न लाभ मिलते हैं :

  • चर्बी कम कर मोटापा दूर करता है।
  • पेट सम्बन्धी रोगों को दूर करता है।
  • मेरुदंड (रीढ़) को लचीला बनाता है।
  • चेहरे और मस्तिष्क की और अच्छी तरह रक्त को प्रवाह करता है।
  • सम्पूर्ण शरीर के दूषित विकारों को निष्कासित कर रोग-मुक्त करता है।
  • हृदय संबंधी बीमारियों के लिए लाभकारी है।
  • पाचन में सुधार लाता है।
  • थकान और चिंता कम करता है।

समय

अंतिम अवस्था में एक मिनट तक रुका जा सकता है। प्रारम्भ के दिनों में इतना रुकना संभव नहीं है, इसीलिए आपसे जितना हो सके उतनी देर ही रुके।


हमें आशा है कि आपको यह लेख ” Padahastasana Steps And Benefits In Hindi” पसंद आया होगा।
आपके कोई प्रश्न हो या आप कुछ सुझाव देना चाहते है तो Comment करे।

यह भी पढ़े : सूर्य नमस्कार – एक सम्पूर्ण आसन

Leave a Comment