Mandukasana benefits in hindi | मंडूकासन कैसे करे

Mandukasana Benefits In Hindi” इस लेख में आप मंडूकासन योग के बारे में जानेंगे। मंडूकासन क्या है, मंडूकासन करने का सही तरीका, इसके फायदे आदि आप जानेंगे।

आज हमारे आधुनिक रहन-सहन और बदलते खानपान के कारण कई तरह की समस्याएं उत्पन हो गयी हैं , जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में रूकावट डालती हैं एवं हमें रोगी बना रही है। ऐसे में खुद को स्वस्थ रखने के लिए सबसे सरल तरीका है सुबह जल्दी उठकर योग, प्राणायाम करना ।

मंडूकासन शब्द में मंडूक का अर्थ होता है मेंढक एवं आसन का अर्थ होता है मुद्रा। इस आसन को करते वक्त हमारा शरीर मेंढक के समान प्रतीत होता है इसीलिए इस आसन को मंडूकासन कहा जाता है। इसे अंग्रेजी में Frog Pose के नाम से जाना जाता है।

यह आसन उदर से संबंधित विभिन्य रोगों जैसे – गैस, चर्बी एवं कब्ज, डायबिटीज आदि के समाधान के लिए अहम भूमिका निभाता है।


मंडूकासन करने का सही समय | Right time to do Mandukasana in Hindi

आसनों को भोजन के बाद कम से कम ३ घण्टे का समय को छोड़कर कभी भी किया जा सकता है। परन्तु इन्हे करने का सबसे उचित एवं श्रेष्ठ समय प्रातःकाल सूर्योदय से पूर्व का है। इस समय वातावरण शुद्ध , शांत व ऊर्जा से भरा हुआ रहता है। इस समय हमारा मन शांत रहता है और दिन के बाकी समय की तरह विचारो से भरा नहीं रहता है।

आसनों के पूर्व के निर्देश एवं सावधानियाँ जानने बहुत आवश्यक है। हमने इसे बहुत अच्छी तरह से बताया है। देखे – योग/आसन के पूर्व के ८ महत्वपूर्ण निर्देश एवं सावधानियाँ


मंडूकासन करने की विधि | Mandukasana Steps in Hindi

पादहस्तासन की सही विधि इस प्रकार है :

  1. वज्रासन की अवस्था में बैठ जाइये।
  2. फिर अपनी मुठ्ठी बांधे और इसे आपनी नाभि के पास ले जाये।
  3. अब अपनी मुट्ठी को खड़ी रखते हुए नाभि एवं जांघ के पास रखे। (ऊँगलियाँ आपके पेट की ओर रहेगी)
  4. श्वास ले और श्वास छोड़ते हुए आगे झुकें, छाती को नीचे इस प्रकार लाये कि वह जांघों पर टिकी रहे।
  5. अपने सिर और गर्दन उठाए रखें।
  6. इसके पश्चात आप फिर से श्वास लेते हुए अपनी सामान्य अवस्था में आये।

श्वास – नीचे झुकते समय श्वास छोड़े।
झुकी हुई अवस्था में धीरे – धीरे श्वास लीजिये या श्वास रोक कर रखे।
वापस आते समय श्वास लीजिये।


समय

जितनी देर सुविधा से हो सके उतनी देर करे। इसकी ३ से ५ आवृतियाँ करे।


Mandukasana Steps and Benefits by Baba Ramdev


मंडूकासन के लाभ | Mandukasana Benefits In Hindi

इसे नियमित रूप से एवं सही तरीके से करने पर निम्न लाभ मिलते हैं :

  • पेट की अत्यधिक चर्बी कम करता है।
  • उदर से संबंधित रोगों के लिए यह उत्तम है।
  • कब्ज एवं अपच को ठीक करता है।
  • डायबिटीज/मधुमेह में लाभकारी है।
  • घुटने के लचीलेपन में सुधार करता है एवं गतिशीलता बढ़ाता है। 
  • रीढ़ को मजबूत बनाता है।
  • इसका एकाग्रचित होकर अभ्यास करने से तनाव, चिंता और अवसाद को दूर किया जा सकता है।

सावधानियाँ | Precautions

  • पीठ दर्द और हृदय की समस्या से पीड़ित लोगों को इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • पेट में अल्सर हो तब इस आसन को नहीं करना चाहिए।    
  • जिन्हे घुटने के दर्द है वे इसे न करे।
  • गर्भवती महिलाओं को अभ्यास नहीं करना चाहिए। 

हमें आशा है कि आपको यह लेख ” Mandukasana Benefits In Hindi” पसंद आया होगा। आपके कोई प्रश्न हो या आप कुछ सुझाव देना चाहते है तो Comment करे।

यह भी पढ़े : Ritucharya in hindi | आयुर्वेद के अनुसार ऋतुचर्या (भाग-१)

Leave a Comment